धनतेरस के दिन एन 12 चीजों को खरीदने से भाग्य 15 हजार गुना प्रबल होगा

धनतेरस स्वास्थ्य और समृद्धि का पर्व है जो हर साल कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस दिन को भगवान धन्वंतरि की जयंती के रूप में मनाया जाता है। और कुबेर की पूजा की जाती है। यम की पूजा का भी इस दिन विधान है। इस बार धनतेरस मंगलवार को है। इसके साथ ही हस्त नक्षत्र और अमृत योग इसे और खास बना रहा है।


इसलिए त्योहार सभी के लिए सुख, समृद्धि संपत्ति दायक होगा। धनतेरस पर बर्तन, गहने आदि खरीदना शुभ माना जाता है। यूं तो सूर्योदय के साथ ही कभी भी खरीदारी कर सकते हैं। धनतेरस के दिन धातु के बर्तन आदि की खरीदारी से लक्ष्मी प्रसन्न हो धन-धान्य से परिपूर्ण करती हैं।

धनतेरस का पर्व आयुर्वेद के जनक भगवान धन्वंतरि की जयंती के रूप में मनाया जाता है। समुद्र मंथन में जो रत्न प्राप्त हुए थे, उनमें प्रमुख स्थान भगवान धन्वंतरि का है। संपूर्ण वैद्य समाज इस दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा करते हैं।
सोना, चांदी, पीतल या अन्य किसी धातु का सामान खरीदना चाहिए। रात में धातु निर्मित गणेश, लक्ष्मी व कुबेर के पूजन का विशेष महत्व है। इस बार धनतेरस अपने आप में अद्भुत फल देने वाला होगा। धनतेरस को हस्त नक्षत्र और अमृत योग का साथ होगा। इस दिन लक्ष्मी-गणेश का पूजन महालाभकारी होगा। ऐसा योग कई दशकों के बाद आ रहा है। धनतेरस की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त शाम 07:20 से लेकर 08:17 के बीच तक रहेगा।

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, 135 सालों के बाद इस साल धनतेरस का त्योहार अत्यंत शुभ योग के साथ आया है। ऐसे शुभ अवसर पर मां लक्ष्मी की वैदिक पूजा अतुलनीय फल की प्राप्ति देने वाली हो सकती है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन मां लक्ष्मी का विधिवत आह्वान कर भक्त मां का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं तथा उनके शुभ संयोग पूरे वर्ष अपने घर में प्राप्त कर सकते हैं।


धनतेरस को शुभ और लाभप्रद बनाने के लिए शुभ मुहूर्त में खरीददारी करना जानना जरूरी है। धनतेरस पर नई चीजें खरीदना काफी शुभ माना जाता है। इस दिन सोना और चांदी खरीदना भी बहुत शुभ माना जाता है। यहां तक कुछ जगहों पर मान्यता है कि धनतेरस पर खरीदी गई किसी भी वस्तु में तेरह गुनी वृद्धि होती है। हर कोई व्यक्ति चाहता है कि मां लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि की कृपा हमेशा उन पर बनी रहे।

 धनरतेरस पर धन वर्षा हो, इसलिए ये 5 चीजें जरूर खरीदें –
 – धन का वरदान पाने के लिए पानी का बर्तन खरीदें.
– कारोबार में उन्नति के लिए धातु का दीपक खरीदें.
– संतान से जुड़ी समस्या हो तो थाली या कटोरी खरीदें.
– अच्छी सेहत और लंबी उम्र के लिए धातु की घंटी खरीदें.
– घर में सुख-शांति के लिए खाना पकाने का बर्तन खरीदें.


आपको इन चीजों को भी खरीदना चाहिए- 
– इस दिन बर्तन, आभूषण, धनिया, गणेश-लक्ष्मी जी वाला चांदी का सिक्का खरीदें.
– इसके अलावा वाहन ,भूमि भवन ,इलेक्ट्रॉनिक आइटम कपड़े घरेलू सामान खरीद सकते हैं.
– बर्तन खरीदें तो इसे खाली घर ना लाएं. इसमें अनाज, मिठाई या मेवे भरकर लाएं.
– घर लाकर सामान पर गंगा जल छिड़कें. रोली लगाएं और कलावा बांध दें. दिपावली की पूजा में इनको पास रखें.

1. प्रदोष काल:-
सूर्यास्त के बाद के 2 घण्टे 24 की अवधि को प्रदोषकाल के नाम से जाना जाता है. प्रदोषकाल में दीपदान व लक्ष्मी पूजन करना शुभ रहता है.


दिल्ली में 17 अक्टूबर सूर्यास्त समय सायं 17:45 तक रहेगा. इस समय अवधि में स्थिर लग्न 19:13 से लेकर 21:08 के मध्य वृषभ काल रहेगा. मुहुर्त समय में होने के कारण घर-परिवार में स्थायी लक्ष्मी की प्राप्ति होती है.

2. चौघाडिया मुहूर्त:-
17 अक्टूबर 2017, मंगलवार
अमृ्त काल मुहूर्त 12:06 से 13:31 तक
शुभ 14:56 से लेकर 16:21 तक


उपरोक्त में लाभ समय में पूजन करना लाभों में वृ्द्धि करता है. शुभ काल मुहूर्त की शुभता से धन, स्वास्थय व आयु में शुभता आती है. सबसे अधिक शुभ अमृ्त काल में पूजा करने का होता है.


इस साल धनतेरस 17 अक्टूबर (मंगलवार) को मनाया जाएगा। धनतेरस की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त शाम 07:20 से लेकर 08:17 के बीच तक रहेगा। इस शुभ मुहूर्त में पूजा करने से धन, स्वास्थ्य और आयु बढ़ती है।
Previous
Next Post »

Privacy and Policy

Copyright © Happy Diwali 2017